अमृत महोत्सव में जिले के 72 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर एनसीडी स्क्रीनिंग का हो रहा आयोजन

अमृत महोत्सव में जिले के 72 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर एनसीडी स्क्रीनिंग का हो रहा आयोजन

– 16 नवंबर से 12 दिसंबर के बीच सभी विकसित एचडब्लूसी पर 10 सत्रों का होगा आयोजन

– प्रत्येक सत्र में 100-100 लाभार्थियों की स्क्रीनिंग के लिये जीविका समूह से जुड़ी दीदियों व उनके परिजनों को किया जायेगा लक्षित

मधुबनी, 30 नवंबर | जिले में आम लोगों तक स्वास्थ्य सुविधाओं को पहुंचाने के लिये स्वास्थ्य समिति प्रतिबद्ध है। जिसके तहत समय समय पर लोगों की जांच करने के साथ दवाओं का वितरण करने के लिये शिविरों का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में 16 नवंबर से लेकर 12 दिसंबर तक देश की स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष को आजादी का अमृत महोत्सव के रूप में मनाया जा रहा है। इस महोत्सव के दौरान सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर (स्वास्थ्य उपकेन्द्र, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र) पर गतिविधियों का आयोजन सुनिश्चित किया जायेगा।

7200 व्यक्तियों की एनसीडी स्क्रीनिंग का लक्ष्य निर्धारित:

डीपीसी पंकज कुमार ने बताया जिले के 72 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर 7200 वेलनेस सेशन का लक्ष्य निर्धारित है। सभी विकसित हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर (एपीएचसी/एचएससी/यूपीएचसी) पर कम से कम 10 सत्र प्रति माह की दर से वेलनेस सेशन कराया जायेगा। जिसमें जिले के विभिन्न इलाकों के 30 वर्ष से अधिक आयु के कुल 7200 व्यक्तियों की नॉन कम्युनिकेबल डिजीज (एनसीडी) स्क्रीनिंग का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसके लिये प्रत्येक हेल्प एंड वेलनेस सेंटर के कार्य क्षेत्र में कम से कम 100 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग कराई जानी है। इस क्रम में समय पर निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने के लिये विशेष रणनीति बनाई गई है। जिसके तहत जीविका दीदी अभियान अन्तर्गत जीविका दीदी एवं उनके परिजनों व प्रधानमंत्री मातृत्व सुरक्षा अभियान के तहत निर्धारित विकसित हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर गर्भवती माताओं की एएनसी जांच की जा रही है।

योजना का किया जायेगा प्रचार- प्रसार :
एनसीडीओ डॉ एस.पी. सिंह ने बताया, राज्य स्वास्थ्य समिति के तहत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स पर वेलनेस सेशन्स का आयोजन किया जायेगा। महोत्सव में दिए गये लक्ष्य के अनुरूप शत-प्रतिशत लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये योजनांतर्गत कार्य किया जा रहा है। इसके लिये सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को अपने स्तर से प्रचार- प्रसार किया जा रहा है। ताकि, अधिक से अधिक लोग इस एनसीडी स्क्रीनिंग का लाभ उठा सकें। साथ ही, आजादी के अमृत महोत्सव का प्रचार-प्रसार भी कराया जायेगा। उन्होंने बताया, एनसीडी बीमारी 30 वर्ष की आयु पूरी करने वाले व्यक्तियों में होने की संभावना अधिक होती है। ऐसे में इस आयुवर्ग के ऊपर के संभावित पीड़ितों की स्क्रीनिंग कर उनका फैमिली फोल्डर भरा जायेगा। फैमिली फोल्डर को एनसीडी पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश दिया गया है।

Related posts

Leave a Comment