जयनगर थाना पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, बरही में हुईं नहर के समीप नेपाली व्यक्ति दुखहरण मोची की निर्मम हत्या मामले का उद्भेदन।

जयनगर थाना पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, बरही में हुईं नहर के समीप नेपाली व्यक्ति दुखहरण मोची की निर्मम हत्या मामले का उद्भेदन। हत्यारा जयनगर पुलिस के हत्थे चढ़े।
मृतक की पत्नी हरिहर देवी ने एक लाख सुपाड़ी देकर करायी थी हत्या हत्यारा, का मृतक की पत्नी से था अवैध सम्बन्ध। हत्या में थे तीन लोग शामिल। हत्या के मुख्य आरोपी को जयनगर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। और अन्य दो कि पहचान भी हो गई है। वही मृतक कि पत्नी हरिहर देवी नेपाल पुलिस के गिरफ्त में है। गिरफ्तार युवक सरस्वती मेडिकल के मालिक जयनगर थाना क्षेत्र के पिठवाटोल निवासी दिलिप यादव का पुत्र मुकेश यादव बताया जाता है। हत्यारा के पास से एक घास काटने वाला हँसिया एवं एक मोबाइल बरामद हुई हैं। हत्यारा का मृतक के पत्नी के साथ दो वर्ष से था अबैध संबंध जिसका भनक लग गया था मृतक दुखहरण मोची उर्फ महरा को करता था विरोध पत्नी ने अपने आशिक को दी सुपाड़ी आशिक ने कर दी हत्या। सूत्रोंके हवाले जानकारी मिली है कि मृतक कि पत्नी विगत दो वर्ष पहले जयनगर के निजि चिकित्सक अम्बिका प्रसाद सिंह के ( ए पी सिंह) के क्लिनिक में बच्चेदानी सर्जरी कराने के लिए आई थी। उसी समय हत्यारा मुकेश यादव का समपर्क मृतक के पत्नी से हो गई। और मृतक के पत्नी दवा समेत अन्य सामग्री खरीदने के बहाने अपने प्रेमी एवं हत्यारा मुकेश यादव के साथ बाजार में घूमती थी। आपको जानकारी के लिए बतादे कि 3 सितम्बर को यह घटना जयनगर थाना क्षेत्र के बरही गाँव वार्ड नं 11 के समीप कमला नहर की शाखा तीनमुहानी मुसहरी पुल से दक्षिण बलाट पुल के समीप नहर किनारे एक 30 वर्षीय अज्ञात व्यक्ति की गला रेत कर निर्मम हत्या कर दी गई थी। शव को पुलिस कब्जे लेकर पोस्टमार्टम हेतु मधुबनी भेज दिया गया था। इसके बाद शव की शिनाख्त और मामले की जाँच में पुलिस जुट गई थी। मृतक के समीप से एक डायरी ,दवा समेत अन्य सामग्री पुलिस ने बरामद किया था। पुलिस के द्वारा उस डायरी में लिखें नेपाली मोबाईल नम्बर मिला था और मृतक की पहचान हेतू फ़ोटो मामले की सूचना नेपाल पुलिस को दी गई थी। जिसके आधार पर शव की शिनाख्त कार्रवाई गई थी। मृतक के पहचान होने पर मृतक के परीजनो को मामले की सूचना दी गई थी। मामले की सूचना पर मृतक के परिजन जयनगर थाना पहुँच कर मामले की विस्तृत जानकारी ली थी। जयनगर पुलिस भी मृतक के परीजनों से मृतक के शिनाख्त हेतू और विस्तृत जानकारी और सत्यापन पर शव को पोस्टमार्टम करा कर परीजनो को सुपूर्द कर दिया गया था। मृतक की पहचान नेपाल सिरहा जिला गोलबाजार के निपनिया गाँव निवासी बिलटू महरा का 30 वर्षी पुत्र दुखहरन मोची उर्फ महरा बताया गया। मृतक मजदूरी बढ़ई मिस्त्री का कार्य करता था। इसके बाद जयनगर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी ए एस पी डा. शौर्य सुमन हत्या के उद्भेदन और हत्यारे की गिरफ्तारी और हत्या के में उपयोग की हथियार के बरामदगी में मामले पर स्वयं नजर रखे हुए थे। जयनगर थाना अध्यक्ष सजंय कुमार के अथक प्रयास के बाद नेपाल पुलिस के सहयोग से शव की शिनाख्त हो पाई थी। इसके बाद पुलिस को हत्या मामले के उद्भेदन बहुत कम समय में बड़ी कामयाबी हासिल कर एक हत्यारे आरोपी को गिरफ्तार करते हुए हत्या में उपयोग की गई हासिया और हत्यारे का मोबाईल भी बरामद कर लिया । जयनगर थाना परिसर में हत्या मामले के उद्भेदन को लेकर प्रेस वार्ता की गई। आयोजित प्रेस वार्ता में ए एस पी डा. शौर्य सुमन ने बताया कि इस मामले का मुख्य आरोपी जयनगर थाना क्षेत्र के पीठवा टोल निवासी मुकेश यादव को गिरफ्तार किया गया है। हत्या का कारण मृतक की पत्नी हरिहर देवी एवं मुकेश यादव के बीच अवैध संबंध बताया गया है।
3 सितंबर को बरही गांव स्थित कमला नहर से एक 30 वर्षीय अज्ञात व्यक्ति की लाश को पुलिस ने बरामद किया था। घटनास्थल पर एक डायरी पुलिस को हाथ लगी। जिसमें नेपाली नम्बर लिखा हुआ था। एएसपी ने बताया कि बरामद डायरी के नंबर नेपाली होने के कारण नेपाली पुलिस से संपर्क किया गया। नेपाली पुलिस और मृतक के परिजनों ने नेपाल निवासी दुखरण मोची उर्फ महरा के रूप में की गई। ए एस पी ने बताया कि घटना की सूचना पर मृतक के भाई विक्रम महरा मृतक का फोटो लेकर जयनगर थाना पुलिस से संपर्क किया और शव की शिनाख्त किया। ए एस पी ने बताया कि मृतक के भाई ने पुलिस को बताया कि मृतक और उसकी पत्नी का भारत में कोई संबंध किसी नहीं हैं। भाई और भाभी का मोबाइल फोन नंबर को नेपाली पुलिस से अनुरोध करते हुए काॅल डिटेल निकाला गया । मृतक के पत्नी का भी कॉल डिटेल नेपाली पुलिस ने निकाला तो पता चला कि इन लोगों का संपर्क जयनगर क्षेत्र के मुकेश यादव से होने की बात सामने आई। जबकि मुकेश यादव व मृतक की पत्नी से मोबाइल पर लगातार संपर्क होने साक्ष्य की बात कही गई है। लगातार विरोध करता था। कॉल डिटेल के आधार और मोबाईल टॉवर लोकेशन पर घटना स्थल पर भी मुकेश की उपस्थिति पाई गई। इसके पश्चात इस आधार पर जयनगर पुलिस ने सभी मामले की जानकारी पुनः नेपाल पुलिस को दी। नेपाल पुलिस ने मृतक के पत्नी से सख्ती से पूछताछ की और हत्या मामले का अपराध स्वीकार कर ली। मृतक की पत्नी आरोपी को नेपाल पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मृतक की पत्नी ने बताया एक निजी क्लिनिक में ईलाज कराई थी उसी समय से मुकेश से सपंर्क हुआ और वह नाजायज सम्बन्ध स्थापित हो गया।मामले की जानकारी मृतक को लग गई थी इसी मामले को ले मृतक अपनी पत्नी से झगड़ता और सम्बन्ध का विरोध करता रहा। इसके बाद मृतक की पत्नी अपने पति से त्रस्त होकर उसे रास्ते से हटाने की ठान ली। मुकेश को काफी दिनों से मृतक की पत्नी अपने पति को रास्ते से हटाने की बात और दवाब मुकेश से करती रही । मुकेश ने इस कार्य के लिये मृतक के पत्नी से एक लाख रुपैया मंगा था। मुकेश को मृतक की पत्नी अपने पति को रास्ते से हटाने के लिये साठ हजार रुपैया देने को तैयार हो गई और बात भी बन गई। इसके बाद पूर्व नियोजित हत्या को लेकर 02 सितम्बर को हरिहर देवी नेपाल गोलबाजार बैंक से रुपैया निकालकर अपने पति दुखहरण के साथ जयनगर के लिये रावाना हो गई और मुकेश को सूचना दे दी हम लोग जयनगर आ रहे हैं। तब मुकेश ने हरिहर देवी को अपने पति के साथ रुपैया लेकर जयनगर रेलवे स्टेशन पर आने को कहा। तब स्टेशन पर मृतक की पत्नी अपने पति को मुकेश मिलवाई। मृतक की पत्नी ने मुकेश को साइड में बुलाकर रुपैया दिया और बोली कि आज इसे रास्ते से हटा दो। तब मुकेश बहाना बना कर दुखहरन को बाईक पर बिठा कर घुमाने औऱ खिलाने पिलाने के लिये ले गया और हरिहर को वही स्टेशन पर ही छोड़ दिया। मुकेश ने मृतक दुखहरण को मल्लाह टोली के समीप खूब शराब पिलाया साथ ही कुछ शराब साथ मे भी रख लिया और वहाँ से मुकेश पुनः दुखहरन को बाईक पर बिठा कर मिश्री लाल चौक होते हुए नहर के रास्ते पकड़ कर बरही के चल दिया। रास्ते मे एक फार्म हाउस के समीप बाईक को रोककर पुनः शराब पिलाया। इसके बाद मृतक शराब के नशे में बुरी तरह धुत हो गया। मुकेश ने वही से अपने एक करीबी को फोन कर नहर के समीप आने को कहा। इसके बाद मुकेश दुखहरन को बाइक पर बिठा कर बरही नहर की ओर चल दिया। नहर के समीप पहुँचने नशे में धुत दुहरन को वही सुला दिया और मुकेश का एक करीबी पहले से वहाँ पहुँचा हुआ था। उसके बाद मुकेश ने अपने करीबी को बोला कि तुम इसकी छाती पर बैठ जाओ और मुकेश ने घास काटने वाली हसिया से दुखहरन महरा को गला रेतकर निर्मम हत्या कर दी। हत्या करने पश्चात मुकेश अपने करीबी के साथ बाजार समिति के समीप आर्केस्टा देखने चला गया। मुकेश के गिरफ्तारी के बाद पूछताछ की गई और हत्या में उपयोग की गई हासिया को पुलिस ने ढूंढ निकाला। हासिया को घटना स्थल के समीप एक गड्ढे में आरोपी के द्वारा हत्या के पश्चात छुपा दिया गया था। दूसरे आरोपी की भी पहचान हो गई बहुत जल्द उसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा। प्रेस वार्ता के दौरान जयनगर थाना अध्यक्ष संजय कुमार, पुलिस पदाधिकारी राज कुमार राय भी मौजूद थे। जयनगर पुलिस के लिए यह बड़ी कामयाबी मानी जा रही है ,
मो. जाबिर की रिपोर्ट

Related posts

Leave a Comment